गाय-भैंस डेअरी खोलने के लिए मिलेगा 5 लाख का लोन..! ऐसे उठाये लाभ

ग्रामीण किसानों के लिए डेयरी फार्मिंग शुरू करने का मौका

राज्य सरकार द्वारा किसानों की आय बढ़ाने के लिए गोपालक योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों के बेरोजगार युवाओं को पांच गायों या भैंसों के साथ छोटे डेयरी फार्म शुरू करने के लिए बैंक ऋण प्राप्त करने की अनुमति मिलती है।

ये पढ़े: इन किसानों को मिलेगा कर्ज माफी योजना का लाभ..! पात्र किसानों की सूची घोषित Farmer loan waiver list.

इस योजना के तहत युवा किसानों को बैंकों से 900,000 रुपये का ऋण मिलेगा। इसके लिए आपको सबसे पहले गोपाल योजना के लिए आवेदन करना होगा। तभी आपको बैंक से लोन मिल सकता है।

खास बात यह है कि इस छोटे डेयरी फार्म को खोलने पर आपको लोन के ब्याज पर सब्सिडी भी मिल सकती है। इस प्रकार, यह कार्यक्रम आपको बैंक से ऋण लेकर 5 गाय का डेयरी फार्म शुरू करने की अनुमति देता है।

फिर, जैसे-जैसे आपको अधिक नौकरियाँ मिलेंगी, आप जानवरों की संख्या बढ़ाकर अपने डेयरी फार्म का विस्तार कर सकते हैं। आपको बता दें कि आज दूध का बिजनेस काफी मुनाफे वाला बिजनेस बन गया है।

ये पढ़े: PM Kusum Yojna: किसानो को मिल रहे है फ्री में सोलर पंप! जानिए आवेदन कैसे करे।

गांव हो या शहर हर जगह दूध और डेयरी उत्पादों की मांग बढ़ती जा रही है। डेयरी उद्योग में आप दूध, दही, छाछ, पनीर, घी, मावा आदि बनाकर और बेचकर भारी मुनाफा कमा सकते हैं।

गोपालक योजना के लिए पात्रता

गोपालक योजना के लिए आवेदन करने के लिए कुछ पात्रता आवश्यकताएँ और शर्तें भी निर्धारित हैं। आवेदन करते समय किसी भी समस्या से बचने के लिए आवेदन करने से पहले यह अवश्य जान लें कि इस प्रणाली के लिए कौन पात्र है और आवश्यक शर्तें क्या हैं। इस कार्यक्रम के लिए पात्रता आवश्यकताएँ और उपयोग की शर्तें इस प्रकार हैं:

  • आवेदक किसान या पशुपालक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • इस कार्यक्रम में आवेदन करने के लिए आवेदकों की आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए।
  • इस योजना के तहत आपके पास कम से कम 5 पशु होने चाहिए। यह जानवर गाय या भैंस भी हो सकता है।
  • आवेदक किसान की वार्षिक आय 100,000 रुपये से कम होनी चाहिए।
  • आपके पास पशु प्रदर्शनी में खरीदा गया एक जानवर भी होना चाहिए।

डेयरी फार्म शुरू करने के लिए आवेदन कैसे करें

डेयरी फार्म शुरू करने के लिए आपको निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा:

  1. अपने स्थानीय पशुचिकित्सक से संपर्क करें और इस कार्यक्रम के तहत डेयरी फार्म खोलने के लिए एक आवेदन प्राप्त करें।
  2. आवेदन पत्र में सभी आवश्यक जानकारी सही-सही भरें और आवश्यक दस्तावेजों की प्रतियां आवेदन पत्र के साथ संलग्न करें।
  3. यह पूरी तरह से भरा हुआ आवेदन पशुचिकित्सक के कार्यालय में जमा करें।
  4. फॉर्म जमा करने के बाद एक रसीद जारी की जाएगी, इसलिए कृपया इसे सुरक्षित स्थान पर रखें।
  5. विभाग द्वारा आपके आवेदन एवं दस्तावेजों की जांच की जायेगी। सब कुछ ठीक रहा तो विभाग योजना का लाभ देगा।

डेयरी फार्म शुरू करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

डेयरी फार्म शुरू करने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी:

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक का मतदाता पहचान पत्र
  • आवेदक का बैंक खाता विवरण
  • पशुपालन विभाग द्वारा जारी पशु स्वास्थ्य प्रमाणपत्र
  • पशु प्रदर्शनी में खरीदे गए जानवर का प्रमाणपत्र

डेयरी फार्मिंग से होने वाले लाभ

डेयरी फार्मिंग से किसानों को निम्नलिखित लाभ हो सकते हैं:

  • अच्छी आय
  • रोजगार के अवसर
  • आत्मनिर्भरता
  • ग्रामीण विकास

यदि आप एक किसान या पशुपालक हैं और डेयरी फार्मिंग करना चाहते हैं, तो गोपालक योजना एक बेहतर विकल्प है। इस योजना के तहत आपको बैंक ऋण और सब्सिडी मिल सकती है, जिससे आप अपना डेयरी फार्म आसानी से शुरू कर सकते हैं।

Leave a Comment

सरकारी योजना ग्रुप