Fly Ash Bricks: लाल ईंट निर्माण की लाइसेंस खत्म, सरकार की नई पहल से बिजनेस के नए मार्ग

Fly Ash Bricks: आज हम आपको बताएंगे कि फ्लाई ऐश ईंट उद्योग कैसे शुरू किया जा सकता है और इसके लिए कितना खर्च आवश्यक होता है, साथ ही आप हर महीने इस उद्योग से कितना पैसा कमा सकते हैं। चलिए जानते हैं फ्लाई ऐश ईंट उद्योग के बारे में।

फ्लाई ऐश ईंट (Fly Ash Bricks) का मतलब होता है राख की ईंटें बनाने का उद्योग। इसे आमतौर पर सीमेंट की ईंटें भी कहा जाता है। इसके लिए आपको कम से कम 1.5 लाख रुपये का निवेश करके, एक 100 गज की जमीन की आवश्यकता होगी। इस उद्योग से आप हर महीने एक लाख रुपये तक की कमाई कर सकते हैं। दिन में 3,000 ईंटों का उत्पादन किया जा सकता है।

ये पढ़े: Janani Suraksha Yojana के तहत गर्भवती महिलाओं को 6000 रुपये की वित्तीय सहायता

फ्लाई ऐश ईंट (Fly Ash Bricks) को आधुनिकीकरण के अंदर बिल्डर अब बहुत तेजी से उपयोग कर रहे हैं। ये ईंटें बिजली संयंत्रों के एश रेसिड्यू और सीमेंट के मिश्रण से तैयार की जाती हैं। इस उद्योग के लिए निवेश का बड़ा हिस्सा मशीनरी में किया जाता है। मैनुअल मशीन को लगभग 100 गज की जमीन में स्थापित किया जाता है। इस मशीन के माध्यम से आप ईंटों का उत्पादन करने के लिए 4 से 6 लोगों की आवश्यकता होती है। इससे आप प्रतिदिन लगभग 3,000 ईंटों का उत्पादन कर सकते हैं। इस निवेश में मटेरियल की लागत भी शामिल होती है।

ज्यादातर पहाड़ी क्षेत्रों में स्टोन डस्ट (Stone Dust) की उपलब्धता के कारण इस उद्योग में लागत कम होती है। इस क्षेत्र में आप ऑटोमेटिक मशीन का उपयोग करके अच्छी कमाई कर सकते हैं। ऑटोमेटिक मशीन की कीमत लगभग 9 से 11 लाख रुपये होती है।

इसमें रॉ मटेरियल से लेकर ईंट बनाने तक सभी प्रक्रियाएं शामिल होती हैं। ऑटोमेटिक मशीन 1 घंटे में 1 हजार ईंटें बना सकती है। इस मशीन के माध्यम से आप हर महीने 4 से 5 लाख ईंटों का उत्पादन कर सकते हैं।

ये पढ़े: Free Jio Mobile Scheme: अब फ्री में मिलेगा महिलाओं को Jio मोबाइल, साथ में 2 साल का रिचार्ज बिलकुल मुफ्त...

व्यवसाय शुरू करने के लिए लोन कहां से प्राप्त करें? (Bricks Loan)

इस व्यवसाय को आप बैंक से लोन लेकर शुरू कर सकते हैं। प्रधानमंत्री रोजगार योजना और मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना के माध्यम से इस उद्योग के लिए लोन प्राप्त किया जा सकता है। इसके साथ ही मुद्रा लोन योजना भी आपके लिए एक विकल्प है।

Leave a Comment

सरकारी योजना ग्रुप